Tuesday , 23 April 2024
हेल्थ

World polio day : क्या पोलियो मुक्त है हमारा देश, क्या है पोलियो, जानें बचने का तरीका

World polio day
World polio day

World polio day पोलियो एक बीमारी है, जो पोलियो वायरस से होती है। यह स्वास्थ्य के लिए एक बहुत बड़ा संकट है , जिससे निपटने के लिए हर देश 5 साल तक के बच्चे को पोलियो इंजेक्शन लगवा रही है।

पोलियो बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करके और इसके इंजेक्शन के जरिए दुनिया के कई देशों ने इस पर जीत हासिल कर ली है।

लोगों को जागरूक्ष करने के लिए 24 अक्टूबर का दिन हर साल वर्ल्ड पोलियो डे के रूप में मनाया जाता है।

World polio day : क्यों मनाया जाता है पोलियो दिवस और क्या है ये बीमारी?

हमारा भारत देश भले हीरो पोलियो मुक्त देश बन चुका है परंतु आज भी यहां पर इसके संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए कई प्रकार के अभियान चलाए जाते हैं। भारत के अलावा भी दुनिया में कई ऐसे देश है,

जिन्होंने पोलियो वायरस पर जीत प्राप्त कर ली है। लेकिन हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान अभी भी इस बीमारी से जूझ रहा है। पोलियो एक गंभीर बीमारी है जो पोलियो संक्रमण से फैलती है।

अगर समय रहते ही इसका इलाज न हुआ तो आगे चलकर नुकसान देह हो जाता है। लोगों को पोलियो के प्रति जागरूक करने और पोलियो वैक्सीन के महत्व के बारे में बताने के लिए हर साल 24 अक्टूबर को वर्ल्ड पोलियो दिवस मनाया जाता है।

इस बार भी 24 अक्टूबर यानी कि आज दुनिया भर में पोलियो डे मनाया जा रहा है। आज के इस आर्टिकल के जरिए हम आपको बताएंगे कि आखिरकार पोलियो दिवस क्या है और

इसे क्यों मनाया जा रहा है। पोलियो के क्या लक्षण होते हैं और इससे बचने के लिए हमें क्या करना चाहिए। तो आईए जानते हैं विस्तार से…

World polio day : पोलियो क्या होता है?

यह एक वायरस है जिसे पोलियोमाइलाइटिस के नाम से भी दुनिया भर में जाना जाता है। जो भी इसकी चपेट में आता है उसकी स्पाइनल नसें प्रभावित हो जाती हैं।

यह बीमारी इतनी भयानक है कि यह या तो लोगों को पैरालिसिस कर देती है या फिर उनकी मृत्यु हो जाती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पोलियो संक्रमण लोगों के पहले गले को संक्रमित करता है उसके बाद आंतों को नुकसान पहुंचता है।

यह बीमारी भी एक से दूसरे तक बड़ी आसानी से फैल जाती है।

World polio day क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड पोलियो डे

बच्चों को पोलियो से बचने के लिए उनके माता-पिता को जागरूक करने के लिए हर साल 24 अक्टूबर को जोनास साल्क ने जन्मदिन के मौके पर रोटरी क्लब की तरफ से मनाया जाता है।

इन्होंने उसे टीम को लीड किया था जिन्होंने पहली बार पोलियो वैक्सीन खोजी थी।

World polio agency ने सन 1988 से वर्ल्ड से पोलियो का खत्म करने का निश्चय किया था। उन्होंने मिशन चलाया था जिसके तहत बच्चों को पोलियो जैसी खतरनाक बीमारी से बचाया जा सके इसके लिए वैक्सीन भी लगवाते रहे।

बहुत लोग इस बीमारी को सस्ते में ले लेते हैं। परंतु यह एक ऐसी गंभीर बीमारी है, जिसके हो जाने पर पैरालिसिस भी हो सकते हैं। यह बीमारी ज्यादातर 5 साल से छोटे बच्चों को अपनी चपेट में लेती है।

इसलिए पेरेंट्स के लिए यह जरूरी है कि वह अपने बच्चों को हर जरूरी इंजेक्शन लगवाए।

ये भी पढ़ें – Benefits of purple food : स्वास्थ्य के लिए जरूरी है पर्पल फूड्स, जाने इसके खाने के फायदे

लक्षण क्या है?

पोलियो वायरस होने के बाद सिर दर्द, गले में खराश, पैरों और हाथों में तकलीफ रहने, बुखार, डायरिया, पैरालिसिस, उल्टी आना, पेट दर्द, गर्दन और मांसपेशियों में अकड़न रहना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं।

इस से कैसे बचे?

इससे खुद को बचाने के लिए सब एक ही उपाय है और वह है पोलियो का वैक्सीन लगवाना। हमारे देश में सरकार की तरफ से निशुल्क oral polio vaccine 5 साल से छोटी उम्र के बच्चों को लगवाई जाती है। पेरेंट्स इसे इग्नोर ना करें जब भी यह इंजेक्शन लगे अपने बच्चों को जरूर लगाए।

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

White Teeth
हेल्थ

किचन में रखी ये चीज का ऐसे इस्तेमाल कर मोतियों जैसे चमकाए अपने पीले दांत…

किचन में रखी ये चीज का ऐसे इस्तेमाल कर मोतियों जैसे चमकाए...