Best Insurance : ULIP में बीमा और निवेश दोनों के मिलते हैं फायदे, ये है इसकी जानकारी

ULIP -Unit linked insurance plan

ULIP (Unit linked insurance plan)  यूलिप प्लान को खरीद कर आप अपने परिवार को वित्तीय सुरक्षा उपलब्ध करवा सकते हैं।ULIP  इस में दो लाभ मिलते हैं, एक बीमा और दूसरा इन्वेस्टमेंट का। इस प्लान में बेहतर रिटर्न भी मिल रहा है।

नमस्कार दोस्तों, लोगों को ज्यादातर ऐसे पॉलिसी प्लान की तलाश रहती है जहां पर उनके कई जरूरतें पूरी हो जाए। जैसे के की पॉलिसी में उन्हें कई प्रकार के लाभ मिले। अगर आप भी इसी तरह के पॉलिसी को ढूंढ रहे हैं तो आपके लिए यूलिप बेस्ट है। इसमें अगर आप निवेश करते हैं तो आपको अच्छा रिटर्न के साथ यहां पर लाइफ इंश्योरेंस भी मिलता है। आपके रहने या ना रहने पर भी आपके परिवार को पॉलिसी की तरफ से वित्तीय सुरक्षा मिलती रहेगी।

ULIP  यह मार्केट लिंक प्रोडक्ट और लाइफ इंश्योरेंस का बेहतरीन कॉन्बिनेशन है। यही वजह है कि म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर रहे निवेशक अब यूलिप की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। जो निवेशक चाहते हैं कि उनके ना रहने के बाद भी उनके परिवार को आर्थिक तंगी ना आए तो वह भी इसमें इन्वेस्ट कर सकते हैं। आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए यूलिप प्लान के बारे में पूरी इंफॉर्मेशन लेकर आए हैं। जिसमें इसके हर पहलू के बारे में विस्तार से बताया जाएगा अगर आपकी यूलिप के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारा यह आर्टिकल आखिर तक ध्यान से पढ़ें। चलिए जानते हैं .

 

ये भी पढ़ें – NPS account खोलने का यह रहा आसान तरीका, इसके फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान

आखिरकार क्या है ULIP plan

ULIP unit linked insurance plan है। यह एक ऐसा पॉलिसी प्लान है जहां पर निवेशकों को इन्वेस्टमेंट और बीमा का लाभ एक साथ ही मिलता है। इस पॉलिसी को खरीदने के बाद जब आप इसमें प्रीमियम का भुगतान करते हैं, तो उस प्रीमियम का कुछ हिस्सा जीवन बीमा कंपनी की तरफ से आपके बीमा कवरेज में ऐड कर लिया जाता है। बाकी बची राशि को इक्विटी और कर्ज उतारने के लिए इस्तेमाल करते हैं। हालांकि यूलिप में निवेश करना मार्केट जोखिमों के अधीन है। यह जब भी इस पॉलिसी में इन्वेस्ट करने की सोची तो अपना पोर्टफोलियो का खास ध्यान रखें।

 

ULIP - Unit Limited Insurance plan

क्या ULIP में भी लगता है शुल्क

जिस प्रकार से आप अन्य इंश्योरेंस या फंड में शुल्क देते हैं। उसी तरह यूनिक में भी शुल्क देना पड़ता है। इसमें चार ऐसी प्रमुख श्रेणियां हैं जिसमें शुल्क लगता है। Fund management charge, mortality charge, premium allocation charge और policy administration charge यह चार्ज आपको यूनिट में शुल्क के रूप में देने पड़ते। फिलहाल जबसे यूलिप को ऑनलाइन शुरू किया गया है तब से निवेशकों को पॉलिसी एडमिनिस्ट्रेशन चार्ज और मोर्टालिटी चार्ज नहीं देना पड़ता है। प्लान परिपक्व हो जाते हैं तो निवेशकों को मोर्टालिटी चार्ज वापस दे दिए जाते हैं। इस प्रकार से यूलिप निशुल्क डिस्कवर प्रदान करने वाला निवेश उत्पाद बन गया है।

unit linked insurance plan -5 साल का लॉक इन पीरियड दिया गया है

अगर आप इस में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि unit linked insurance plan में 5 साल का लॉक इन पीरियड इन्वेस्टमेंट और इंश्योरेंस कंबीनेशन के साथ दिया जाता है। लेकिन अगर आप ज्यादा रिटर्न कमाने की इच्छा रखते हैं तो आपको 5 साल की जगह 10 या 12 साल के लिए लॉकिंग पीरियड लेना चाहिए।

 

ULIP में कस्टमर्स को डेट बैलेंस इन्वेस्टमेंट, मिड या स्मॉल कैप और लार्ज में रिस्क के हिसाब से निवेश करने की छूट मिलती है। आप अलग-अलग फंड में भी निवेश कर सकते हैं।

टैक्स छूट का लाभ भी मिलता है

यूलिप में निवेशकों द्वारा किया गए इन्वेस्ट पर उन्हें टैक्स छूट का लाभ मिलता है। इसमें सेक्शन 80c के तहत 1.5 करोड़ रुपए तक आपको टैक्स से मुक्ति मिलती है। काफी कमाल की बात है कि इसमें निवेशकों को भूगतान किए गए प्रीमियम पर किसी प्रकार का टैक्स नहीं देना पड़ता। कई बड़ी कंपनियों ने 5 सालों के बीच इस पॉलिसी पर 10% का रिटर्न दिया है।

फंड्स में बदलाव करने का भी है ऑप्शन

बाजार ऊपर नीचे होता रहता है, ऐसे में इसकी स्थिति के हिसाब से कंपनियां अपने इन्वेस्टर्स को जमा पूंजी को एक फोन से दूसरे फोन में निवेश करने की परमिशन देती है। निवेशक अपनी वित्तीय प्राथमिकताओं और आर्थिक परिस्थितियों के हिसाब से अपनी मर्जी से जब चाहे तब जितनी बार भी चाहे अपने फंड में बदलाव कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए कंपनी आपसे 2000 से लेकर 5000 तक चार्ज लेती है।

यूलिप में देथ बेनिफिट्स भी मिलते हैं

यूलिप प्लान में आपको मृत्यु बेनिफिट भी दिए जाते हैं। पॉलिसी होल्डर की अवधि के दौरान अगर मृत्यु हो जाती है तो नॉरमनी को बीमा की एकमुश्त रकम दे दी जाती है। जो की पूरी तरह से टैक्स फ्री होता है। यही नहीं इसमें फ्लैक्सिबिलिटी का लाभ भी निवेशकों को मिलता है। यानी कि वह जब चाहे टॉपअप लेकर निवेश को बढ़ा सकते हैं। मगर यह टैक्स के अधीन आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *