Real state for NRI : NRI Indian property बाजार में ले रहे हैं रुचि, निवेश में इतनी हो रही बढ़ोतरी

Real state for NRI

Real state for NRI इंडियन प्रॉपर्टी मार्केट में अनारा इसकी हिस्सेदारी लगातार बढ़ती जा रही है। जो आंकड़ा पहले 10% से कम था वह बढ़कर 20% तक पहुंच गया है। रियल एस्टेट सेक्टर की गाड़ी अब पटरी पर लौटने लग गई है।

नमस्कार दोस्तों, कोरोनावायरस ने हर चीज को अपने चपेट में ले लिया था। इसका असर इंडियन प्रॉपर्टी पर भी खूब देखने को मिला था। रियल एस्टेट सेक्टर संक्रमण से काफी प्रभावित हो गया था। नतीजतन इसमें लगातार गिरावट आने लग गई थी।

पर अब यह फिर से पटरी पर लौट रही है। इसमें नए-नए प्रोजेक्ट लॉन्च किए जा रहे हैं। हाउसिंग प्रोजेक्ट की डिमांड काफी ज्यादा होने लग गई है। लोगों द्वारा प्रीमियम प्रोजेक्टर को अधिक तवज्जो दिया जा रहा है। ऐसे में n.r.i. की भागीदारी भी इसमें बढ़ने लग गई है। इंडियन प्रॉपर्टी में वह काफी दिलचस्पी ले रहे हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि इंडियन प्रॉपर्टी मार्केट में एन आर आई क्यों दिलचस्पी लेने लग गए हैं और उनका कितना प्रतिशत इसमें योगदान हो रहा है। अगर आप भी रियल एस्टेट सेक्टर के बारे में जानकारी लेने के इच्छुक हैं तो हमारा यह आर्टिकल ध्यान से पढ़ें। तो आइए जानते हैं …

 

Real state for NRI इंडियन प्रॉपर्टी में एन आर आई की हिस्सेदारी

संक्रमण के कारण रियल स्टेट में काफी गिरावट देखने को मिली। मगर जानकारी अनुसार पता चला है कि Real state for NRI उसके बाद से इसमें NRI की हिस्सेदारी कई गुना बढ़ गई है। विदेशों में रह रहे भारतीयों की लगभग 20 फ़ीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी रियल एस्टेट डेवलपर्स की कुल बिक्री में हुआ है। लग्जरी प्रोडक्ट्स और प्रीमियम की बिक्री में n.r.i. की हिस्सेदारी 2 गुना तक बढ़ चुकी है। आपको बता दें कि कोरोनावायरस से पहले यह हिस्सेदारी केवल 10% तक ही सीमित थी। मगर आप इसमें बढ़ोतरी हो गई है।

Real state for NRI विदेशों में भी हो रही है अब मार्केटिंग

भारत के रियल एस्टेट सेक्टर में NRI इसने पिछले 2 साल में काफी तेजी देख ली है। यही कारण है कि वह भी इस तेजी का हिस्सा बनना चाहते हैं। प्रकार से इंडियन प्रॉपर्टी मार्केट में अनिवासी भारतीयों की रूचि को देखते हुए इंडियन टेबल पर सुने अपने प्रोजेक्ट की मार्केटिंग सिंगापुर और दुबई जैसे अन्य कई विदेशों में करना शुरू कर दिया है। कई डेवलपर्स ने तो वहां पर अपने ऑफिस भी खोल लिए हैं। प्रॉपर्टी के मामले में NRI की पहली पसंद बेंगलुरु, दिल्ली-एनसीआर और मुंबई बनी हुई है। यह इसलिए है क्योंकि यहां पर उन्हें लग्जरी और सुपर लग्जरी और प्रीमियम जैसे प्रोजेक्ट आसानी से मिल जाते हैं।

 

ये भी पढ़ें – IRCTC के 35 पैसे वाला यात्रा बीमा

Real state for NRI डॉलर से खरीदने में हो रही है आसानी

Real state for NRI डॉलर ने एनआरआई के लिए भारत में प्रॉपर्टी खरीदने की प्रक्रिया को आसान बना दिया है। भारतीय रुपए की जगह डॉलर की मजबूती से भारतीय रियल एस्टेट सेक्टर में काफी बदलाव आ गया है। Sotheby’s International Realty द्वारा एक सर्वेक्षण करवाया गया है जिसमें पाया है कि NRI पिछले 2 साल से भारत में प्रॉपर्टी खरीदने की सलाह बना रहे हैं।NRIs ब्रांडेड रेजिडेंस,कॉन्डोमिनियम,और लग्जरी विला की खरीदारी करने में लगे हैं।

Real state for NRI यहां पर भी है भारतीय प्रॉपर्टी के खरीदार

एन आर आई का समूह भारतीय प्रॉपर्टी मार्केट पर ज्यादा ध्यान दे रहा है। यह इसलिए हो रहा है क्योंकि वह भविष्य में अच्छे रियल स्टेट की तलाश कर रहे हैं। वहीं डीएलएफ के सबसे बड़े बाजारों में से अमेरिका भी एक है।Real state for NRI  इनके अलावा इंडियन प्रॉपर्टी के खरीदार दक्षिण पूर्व, एशिया और मध्य पूर्व में भी मौजूद है। पिछले 2 सालों में भारत के जो लोग विदेशों में बस चुके हैं वह इंडियन प्रॉपर्टी को खरीदने में बहुत दिलचस्पी दिखाने लग गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *