life insurance rule for smokers: सिगरेट पीने से केवल सेहत पर ही नहीं, insurance पर भी पड़ता है असर

life insruannce rule for smokers

life insurance rule for smokers सिगरेट पीने वाले व्यक्तियों को हेल्थ इंश्योरेंस में 80% से अधिक का प्रीमियम देना पड़ता है। सिगरेट जहां उनके सेहत को प्रभावित कर रहा है तो वही उनकी इंश्योरेंस पर भी असर दिखने लग गया है।

नमस्कार दोस्तों, क्या आप जानते हैं कि सिगरेट पीने वालों को हेल्थ इंश्योरेंस में ज्यादा प्रीमियम चुकाना पड़ता है। अगर नहीं जानते हैं तो हमारा यह आर्टिकल आपके लिए ही है। सिगरेट सेहत को बुरी तरह से प्रभावित करता है, यह तो हर कोई जानता है। लेकिन सिगरेट यानी कि धूम्रपान करने से आपकी जेब पर भी असर पड़ता है क्या यह कभी सोचा है। जी हां, आपने हेल्थ इंश्योरेंस की पॉलिसी खरीदी है,

और धूम्रपान भी करते हैं तो ऐसे हालात में आपको अधिक प्रीमियम भरना पड़ता है। पॉलिसी कंपनी वाले भी यह ठान के बैठे हैं कि या तो सिगरेट छोड़ें या अधिक इंश्योरेंस भरे। पर फिर भी लोग धूम्रपान करना नहीं छोड़ते हैं। हाल ही में एक रिपोर्ट आई थी जिसमें बताया गया था कि हमारे देश में 12% लोग सिगरेट का सेवन करते हैं। जिससे हर बार कितनी जाने जा रही हैं। आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए एक ऐसी जानकारी लेकर आए हैं ,

जो आपको अधिक प्रीमियम भरने से बचा सकता है। जो लोग सिगरेट पीते हैं और हेल्थ इंश्योरेंस लेने की सोच रहे हैं तो वह यह बात गांठ बांध ले, कि उनको ज्यादा प्रीमियम चुकाना पड़ेगा। आपको भी सिगरेट की लत है और इंश्योरेंस लेने की सोच रहे हैं, हमारा यह आर्टिकल आखिर तक पढ़ें। तो आइए जानते हैं विस्तार से …

 

life insruannce rule for smokers

life insurance rule for smokers : सिगरेट पीने वालों को देना पड़ता है अधिक प्रीमियम

life insurance rule for smokers सिगरेट पीने से जहां आप की जिंदगी खतरे में पड़ती है तो वहीं इसका असर आपके हेल्थ इंश्योरेंस पर भी पड़ता है। धूम्रपान करने वाले लोगों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस काफी महंगा पड़ता है। आपको बता दें कि जो लोग सिगरेट के आदी है वह लगभग बीमार ही रहते हैं और उनके मृत्यु होने की संभावना भी अधिक रहती है। यही वजह है कि बैंक या जीवन बीमा पॉलिसी कंपनियों द्वारा धूम्रपान करने वाले लोगों के लिए इंश्योरेंस के रेट बढ़ा दिए जाते हैं। डब्ल्यूएचओ एक संरक्षण से पता चला है कि इंडिया में 12% ऐसे लोग हैं जो धूम्रपान करते हैं और इसमें से 10 मिलियन सिगरेट पीने वालों की मृत्यु हो चुकी है। इसीलिए इनको इंश्योरेंस पॉलिसी देने से पहले रेट बढ़ाकर बताए जाते हैं।

life insruannce rule for smokers

life insurance rule for smokers : धूम्रपान कर रहे लोगों का प्रीमियम क्यों बढ़ता है

life insurance rule for smokers हम सब जानते हैं सिगरेट पीने से कितना बड़ा नुकसान होता है। इसी को देखते हुए पॉलिसी कंपनियां उन लोगों से ज्यादा प्रीमियम का चार्ज लेती है जो सिगरेट पीते हैं। जब भी ऐसे व्यक्ति इंश्योरेंस लेने के लिए जाते हैं तो कंपनी द्वारा उनका हेल्थ रिस्क देखा जाता है तभी उन्हें पॉलिसी रिटर्न के हिसाब से मिलती है। बता दें कि सिगरेट पीने से फेफड़े और दिल से जुड़ी बीमारियां होती।Life Insurance  जिस वजह से लोगों के फेफड़े में इंफेक्शन हो जाती है , बीपी बढ़ता रहता है। कई बार उसकी मौत भी हो जाती है। इन परिस्थितियों को मुख्य रखते हुए ही उनसे आम लोगों से अधिक प्रीमियम चार्ज लिया जाता है।

 

ये भी पढ़ें  Financial tips for adults : कम उम्र में अमीर बनने के लिए अपनाएं ये tips

कितना प्रीमियम लिया जाता है

सिगरेट पीने वाले व्यक्ति को हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए 75 से 80 फ़ीसदी का अधिक विनियम देना पड़ता है। इसे एक उदाहरण के जरिए आप को समझाते हैं। मान लीजिए कि आपकी आयु अभी 30 वर्ष है। अपने एक करोड़ की टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी ली है। अगर आप सिगरेट नहीं पीते हैं तो आपको केवल 8500 प्रीमियम देना पड़ता है लेकिन वही अगर आप सिगरेट पी रहे होते तो यही राशि आपको 80% अधिक देनी पड़ती थी यानी कि प्रीमियम 15,000 आपका होना था। तो यह फर्क है सिगरेट पीने वाले और ना पीने वाले व्यक्ति के लाइफ इंश्योरेंस के प्रीमियम में।

 

कंपनियां किस प्रकार से लोगों की कैटिगरी विभाजित करती हैं

लाइफ इंश्योरेंस कंपनियां जब भी इंश्योरेंस लेने वाले व्यक्तियों को इंश्योरेंस देती है तो पहले उन्हें दो भागों में बांटती है। जिसमें एक होता है ज्यादा जोखिम जॉब पर फाइल और दूसरा कम जोखिम जो प्रोफाइल वाले लोग होते हैं। ज्यादा जोखिम वाले में पुलिस, ड्राइवर, धूम्रपान करने वाले व्यक्ति या अन्य कैटेगरी के लोग शामिल है । जबकि कम जोखिम वाले जॉब प्रोफाइल में इंजीनियर, मार्केटिंग कंसल्टेंट्स, बैंकर, अध्यापक जैसे अन्य लोग जोड़े जाते हैं। अधिक जोखिम जॉब प्रोफाइल वाले लोगों से ज्यादा प्रीमियम लिया जाता है। सिगरेट पीने वाले लोग भी ज्यादा जोखिम जॉब प्रोफाइल में आते हैं इसीलिए उन से अधिक प्रीमियम लिया जाता है। वही कम जोखिम जॉब प्रोफाइल वाले व्यक्तियों से कंपनियां कम प्रीमियम लेती है।

life insurance rule for smokers : अगर व्यक्ति पॉलिसी लेने के बाद स्मोकिंग करे तो

life insurance rule for smokers : मान लीजिए कि अगर किसी व्यक्ति ने हेल्थ इंश्योरेंस की पॉलिसी खरीद ली है और उसके बाद वह स्मोकिंग करना शुरू कर देता है। इसमें यह जरूरी होता है कि वह कंपनी को इसकी जानकारी दे। जिस वजह से उनकी प्रीमियम में इजाफा किया जाएगा। मगर आप इसकी जानकारी कंपनी को नहीं देते हैं और किसी बीमारी से ग्रस्त हो जाते हैं। जिस वजह से आपकी मृत्यु की संभावना हो जाती है तो बाद में आपको करीम राशि देने से इंकार कर सकती है। इसलिए समय रहते हैं यह जानकारी कंपनी को जरूर दें ताकि आगे चलकर आपको कोई परेशानी ना हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *