best finance tips : Life insurance and Health Insurance लेते समय ना करें ये गलती, जरूरत के हिसाब से करें select

Life insurance and Health Insurance

Life insurance and Health Insurance अधिकतर लोग इनकम टैक्स बचाने के चक्कर में ऐसे हेल्थ इंश्योरेंस ले लेते हैं जिनकी उन्हें जरूरत नहीं होती। हेल्थ या लाइफ इंश्योरेंस लेते समय जल्दबाजी ना करें बल्कि अपने जरूरत के हिसाब से ही पॉलिसी खरीदें ।

नमस्कार दोस्तों, लाइफ इंश्योरेंस खरीदारी करते समय यह मत सोचो कि आपको इनकम टैक्स बचाना है बल्कि अपनी परिवार की जरूरतों और लायबिलिटीज के हिसाब से ही पॉलिसी का चुनाव करें। कई बार यह देखने में आता है कि सिर्फ इनकम टैक्स बचाने के लिए ही लोग हेल्थ इंश्योरेंस लेते हैं जो कि बहुत गलत है।

उन्हें अपनी जरूरतों को ध्यान में रखकर ही पॉलिसी लेनी चाहिए। जो इन्वेस्ट करते आ रहे हैं वह यह बात अच्छे से जानते हैं कि 1.5 लाखों रुपए के इन्वेस्ट पर टैक्स नहीं लगता है। परंतु इसका मतलब यह नहीं है कि आप इस प्रकार की पॉलिसी ही खरीदें।

एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले कई सालों से Life insurance and Health Insurance अधिक खरीदे जाने लगे हैं। कुछ लोग तो ऐसे भी हैं जिन्होंने पहली पॉलिसी ली और वह भी टैक्स से छूट पाने के लिए। इस सब में हम यह भूल जाते हैं कि हेल्थ इंश्योरेंस टैक्स बचाने के लिए नहीं बल्कि हमें और हमारे परिवार को वित्तीय सुरक्षा देने के लिए है।

Life insurance and Health Insurance  इसीलिए जब भी इंश्योरेंस खरीदे तो अपने परिवार की जरूरतों के हिसाब से खरीदे ना कि टैक्स से बचने के लिए। पॉलिसी खरीदते समय कभी भी यह मत सोचें कि उस पर केवल टैक्स बचाना है या कम किफायती वाला पॉलिसी लेना है बल्कि अधिक लाभ लेने के लिए आपको अच्छी पॉलिसी का सिलेक्शन करना बहुत जरूरी है। कुछ हेल्थ इंश्योरेंस इस प्रकार के भी है। जहां पर आपको लाइफ कभी भी मिलता है और टैक्स से छूट भी मिलती है।

Life insurance and Health Insurance  आज के इस आर्टिकल में आपको बताएंगे कि लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस लेते समय आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। किस प्रकार के हेल्थ इंश्योरेंस आपको लेने चाहिए। तो चलिए जानते हैं .

 

Life insurance and Health Insurance

 

Life insurance and Health Insurance  : Health insurance policy पर इतना मिलता है टैक्स का लाभ

मार्केट में हर वर्ग के लोगों के लिए अलग-अलग तरह के हेल्थ इंश्योरेंस उपलब्ध है। जिसमें सीनियर सिटीजन स्लिप के लिए 30000 रुपए तक डिटेक्शन लिमिट बढ़ जाती है। यदि आप अपने लिए अपने बच्चों के लिए एक पॉलिसी लेते हैं और अपने माता-पिता के लिए दूसरी पॉलिसी खरीदते हैं। इस स्थिति में आप की पॉलिसी से 25000 रुपए और आपके माता पिता के पॉलिसी से 25000 रुपए का डिटेक्शन आपको मिलता है। यानी कि इस अवस्था में आपको दो डिटेक्शन मिलते हैं। अगर कोई व्यक्ति अपने और अपने बच्चों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस खरीदता है। उसे प्रीमियम पर 25000 रुपए का डिडक्शन मिलता है। अगर आप खुद भी बड़े हैं और आपके माता-पिता भी वरिष्ठ हैं और ऐसे में आप एक अपने लिए और एक अपने माता-पिता के लिए इंश्योरेंस खरीदते हैं तो आपको आपकी पॉलिसी पर 30,000 रुपए और आपके माता-पिता की पॉलिसी पर भी 30,000 रुपए का डिडक्शन आपको मिल सकता है।

ये भी पढ़ें – life insurance rule for smokers: सिगरेट पीने से केवल सेहत पर ही नहीं

Life insurance and Health Insurance  : अपनी जरूरतों को ध्यान में रखकर खरीदें हेल्थ इंश्योरेंस

अपने परिवार की जरूरतें और लाइव सिटी को पहले अच्छे से जांचे परखे फिर उसी हिसाब से ही टर्म या लाइफ इंश्योरेंस ले। टर्म इंश्योरेंस आपकी सालाना इनकम से 10 गुना अधिक होना चाहिए। इंश्योरेंस प्लान खरीदते समय आपको अपनी आयु और समय का भी पूरा ध्यान रखना चाहिए। अपने परिवार के लाइव स्टाइल को बिना नुकसान पहुंचाए इंश्योरेंस खरीदने के लिए आप लॉन्ग टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं। महंगाई को भी ध्यान में रखकर और ऊपर कोई कर्ज या लोन ना हो इन बातों को भी अच्छे से सोच विचार करें इंश्योरेंस पॉलिसी ले।

Life insurance सही पॉलिसी की खरीदारी करने के लिए बाजार में उपलब्ध हर हेल्थ इंश्योरेंस का विश्लेषण करें उसका आपस में मिलान करके सही निरीक्षण निकाले तब ही सिलेक्ट करें। जिस कंपनी से आप अलसी खरीद रहे हैं उसके काम और क्लेम देने के तरीके दोनों बेहतरीन होने चाहिए। क्योंकि क्लेम लेते समय आपको कई परेशानियां होती हैं अगर इन बातों का पहले से ही जांच पड़ताल कर ले तो आगे जाकर दिक्कत नहीं होगी। मन से यह विचार भी निकाल दे कि केवल किफायती पॉलिसी ही आपके लिए सही होगी बल्कि आप इससे अतिरिक्त और भी पॉलिसी देख सकते हैं।

 

Life insurance and Health Insurance  : बचत योजनाओं में निवेश करके टैक्स बचा सकते हैं

Life insurance and Health Insurance सरकार द्वारा बैंक और पोस्ट ऑफिस में कई ऐसी बचत योजनाएं चलाई जा रही हैं जिसमें इन्वेस्ट करके आप टैक्स भरने से बच सकते हैं। फिलहाल पोस्ट ऑफिस में सेविंग स्कीम, सीनियर सिटीजन, टाइम डिपॉजिट स्कीम, पब्लिक प्रोविडेंट फंड के अलावा अन्य कई ऐसी स्कीम चलाई जा रही है जिसमें निवेश करके लोग इनकम टैक्स देने से बच रहे हैं। क्योंकि यह पॉलिसी टैक्स फ्री है। इसके अलावा लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी में आप अपने पूरे जीवन में जो प्रीमियम चुकाते हैं। उस पर 1961 सेक्शन 80c के तहत इनकम टैक्स से छूट पा सकते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *