Dantewada naxal attack : जवानों से भरी गाड़ी पर नक्सलियों ने किया हमला, 11 जवान हमले में हुए शहीद 

अरनपुर के जंगलों में घात लगाए बैठे नक्सलियों ने जवानों से भरी गाड़ी पर किया हमला। हमले में 11 जवान बलिदान हो गए हैं जबकि लगभग 10 जवान घायल हुए हैं। केंद्रीय कैबिनेट बलिदान हुए जवानों को श्रद्धांजलि दे रही है।

 

दंतेवाड़ा में जवानों पर हुआ हमला – छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा के अरनपुर में नक्सलियों ने district reserve guard के जवानों पर अचानक से हमला कर दिया। इस हमले में एक ड्राइवर के साथ 11 जवान शहीद हो गए हैं। नक्सली जंगल में घात लगाए हुए बैठे थे। अचानक हुए हमले में जवानों संभलने का समय भी नहीं मिला। इस हमले पर पूरा देश अफसोस जता रहा है। सरकार से बदले की गुहार लगा रहा है।

 

ऐसे दिया हमले को अंजाम – दंतेवाड़ा जिला नक्सलियों से प्रभावित है। नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट करके इस हमले को अंजाम दिया। जानकारी के अनुसार अरनपुर के थाना क्षेत्र में सूचना मिली थी कि माओवादी कैडर है। नक्सल विरोधी अभियान चलाने के लिए ही दंतेवाड़ा से जवानों का एक जत्था रवाना किया गया था। अभियान खत्म होने के बाद जब जबान वापस लौट रहे थे तो घात लगाए बैठे नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर दिया। जिसमें डीआरजी के 10 जवान मारे गए।

 

घात लगाए बैठे थे नक्सली – स्पेशल अभियान पर निकले हुए जवानों पर हमला करने के लिए नक्सली अरनपुर में घात लगाए हुए बैठे थे। कहा जा रहा है कि जब जवान स्पेशल ऑपरेशन के लिए निकले तो इसकी भनक नक्सलियों को लग चुकी थी। जैसे ही जवानों से भरी हुई गाड़ी अरनपुर के पालनार में जैसे ही पहुंची वैसे ही ताक में बैठे नक्सलियों ने उनकी गाड़ी को आईईडी से उड़ा दिया। आईडी इतना बड़ा और ताकतवर था कि उसके पर हार से सड़क पर लंबा, चौड़ा और गहरा सुराख हो गया। हालांकि दोनों तरफ से फायरिंग भी हुई। मगर इस हमले में जवानों को संभलने का मौका भी नहीं मिला। हैरानी जनक है कि जहां पर जवानों के ऊपर हमला हुआ है हां पर काफी लंबे समय से नक्सल विरोधी अभियान चलाए जा रहे हैं। इसके बावजूद भी वहां पर नक्सली बड़े हमलों को अंजाम दे रहे हैं।

छत्तीसगढ़ नक्सलियों का गढ़ बना हुआ है – छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने अपना घर बनाया हुआ है। लेकिन सरकार उस गढ़ को जड़ से उखाड़ने में नाकामयाब हो रही है। उसी का नतीजा है कि बुधवार को नक्सलियों ने हमारे जवानों पर हमला किया जिसमें 11 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए। नक्सली के दंतेवाड़ा तक ही सीमित नहीं है बल्कि बीजापुर सुकमा और बस्तर पहाड़ियों में बसे हुए हैं। 200 नक्सलियों ने 25 मई 2013 को सुकमा की घाटी में कांग्रेस के एक रैली पर हमला कर दिया था।

 

उस हमले में तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस प्रमुख नंद कुमार पटेल, छत्तीसगढ़ विधानसभा के पूर्व नेता महेंद्र कर्मा, पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल के साथ अन्य 32 लोगों की मृत्यु हो गई। इसके बाद 2 अप्रैल 2021 में 2000 जवानों ने नक्सल विरोधी अभियान चलाया था इस दौरान उन्होंने नक्सलियों पर हमला कर दिया जिसमें हमारे 22 जवान मारे गए। इतने बड़े हादसे हुए हैं लेकिन फिर भी सरकार छत्तीसगढ़ से नक्सलियों के जड़ को उखाड़ने में अब तक असफल ही साबित हुई है।

 

हमले की पीएम मोदी ने की निंदा – दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में शहीद 11 जवानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट के जरिए श्रद्धांजलि दी। उन्होंने नक्सली हमले की कड़ी निंदा भी की है।

 

शहीद जवानों को कैबिनेट ने दी श्रद्धांजलि – केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में नक्सली हमले में बलिदान हुए 11 जवानों को श्रद्धांजलि दी है। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि, ‘ दंतेवाड़ा में हमारे 11 जवानों की शहादत हुई है, उन्हें कैबिनेट ने श्रद्धांजलि अर्पित की है।

 

अमित शाह ने सीएम से की बात – नक्सली हमले में शहीद हुए जवानों के सिलसिले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सीएम बघेल से बातचीत की। उन्होंने हर संभव मदद का भरोसा दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *