41 साल की हुई प्रियंका चोपड़ा ( Priyanka Chopra ), देसी गर्ल 18 वर्ष की आयु में ही बन गई थी हीरोइन

Priyanka Chopra

एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra)अब एक ग्लोबल आईकॉन बन गई है। आज वह अपना 41वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रही हैं।

बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक उनके नाम का डंका बजता है। उन्होंने यह साबित कर दिया है कि अगर आपने टैलेंट है तो आप देश क्या विदेश में भी अपने नाम का झंडा लहरा सकते हैं।

बहुत कम लोग जानते हैं कि एक्टिंग के साथ-साथ वो एक बिजनेस वूमेन ही है।

Happy birthday Priyanka Chopra

जमशेदपुर में 18 जुलाई 1982 को जन्मी प्रियंका चोपड़ा आज के टाइम में वर्ल्ड में किसी भी पहचान की मोहताज नहीं है। उनके पिता अशोक चोपड़ा और मां मधु चोपड़ा दोनों ही आर्मी में डॉक्टर थे।

हिंदी फिल्मी जगत से लेकर हॉलीवुड तक उन्होंने जो कर दिखाया है, वह शायद ही कोई कर पाए। अपने काम के साथ-साथ वह किसी भी मुद्दे पर बेबाक अपनी बात रखने के लिए भी जानी जाती हैं। हॉलीवुड में उन्होंने अपने एक्टिंग का लोहा मनवाया है। जैसे जैसे वो अंग्रेजी फिल्मी दुनिया में अपना नाम बनाती जा रही है,

वैसे ही वह हॉलीवुड की गुमनाम और खतरनाक रूप के बारे में धीरे-धीरे खुलासा भी कर रही हैं जिस वजह से वह लगातार सुर्खियों में बनी रहती हैं। कुछ दिन पहले ही उन्होंने बॉलीवुड को लेकर एक खौफनाक खुलासा किया था, जिसने सभी को चौंका कर रख दिया।

हॉलीवुड जगत में सिटाडेल मूवी से अपनी एक्टिंग से सबको उड़ान चकित कर देने वाली प्रियंका चोपड़ा 18 जुलाई 2023 यानी कि आज अपना 41वां जन्मदिन अपने रिश्तेदार, परिवार और फ्रेंड्स के साथ मना रहे हैं। प्रियंका चोपड़ा को पहले सब ब्राउन कर कहकर बुलाते थे।

परंतु उन्होंने अपने टैलेंट की वजह से सब का मुंह बंद करवा दिया। इस पोस्ट में हम सबकी प्यारी और लाखों करोड़ों दिलों दिलों पर राज कर रही बरेली की बर्फी के बारे में जानेंगे कुछ खास बातें।

 

priyanka chopra

 

Priyanka Chopra : 13 साल की उम्र में रंगभेद का हुई थी शिकार

प्रियंका चोपड़ा ( Priyanka Chopra)  जब केवल 13 साल की थी तो वह यूएसए में पढ़ाई के लिए गई। वहां पर वह अपनी आंटी के साथ रहती थी। यहां उन्हें रंगभेद का शिकार होना पड़ा था। क्योंकि ब्राउन रंग होने की वजह से अंग्रेज बच्चे उन्हें काफी अजीबोगरीब कमेंट करते थे।

जिस वजह से प्रियंका काफी दुखी होती थी। यहां तक कि अंग्रेज बच्चे प्रियंका पर भारत वापस लौटने का कई बार तो आप ही बना चुके थे।

यही नहीं प्रियंका उन बच्चों से इतना डर गई थी कि वह बाथरूम में छुप कर अपना लंच किया करती थी ताकि कोई उन्हें कुछ बोले ना। इस बात का खुलासा प्रियंका चोपड़ा ने भी किया था कि वह अपने रंग और फीचर्स की वजह से काफी अंडरकॉन्फिडेंट रहती थी।

यह सफर नहीं रुका था बल्कि जब वह केवल 18 वर्ष की आयु में ही मिस वर्ल्ड बन चुकी थी, भले ही इतनी कम उम्र में यह खिताब हासिल करके उन्होंने मिसाल कायम की थी, परंतु फिल्मों में काम करने के लिए उन्हें फिर से अपने रंग और फीचर की वजह से बातें सुनी पड़ी थी।

 

ये भी पढ़ें – Bhumi pednekar birthday : असिस्टेंट डायरेक्टर से शुरु किया था करिए, लाखों दिलों की धड़कन है भूमि

 

Priyanka Chopra  : लाइम लाइट में रहने वाली प्रियंका चोपड़ा को पार्टी नहीं पसंद

 

प्रियंका चोपड़ा ( Priyanka Chopra ) की लाइफ एकदम साधारण थी। हीरोइन बनने से पहले उनके पिता ने उन पर कई सारी पाबंदियां लगा रखी थी ,

जैसे की जींस नहीं पहनना, अकेले बाहर नहीं जाना यहां तक इनकी खिड़कियों पर भी पक्की जाली लगवा दी थी। मगर हम सभी सोचते थे कि आज बैंक आसोपालाव लाइट नहीं बनी रहती है तो उन्हें पार्टीज करना कितना पसंद होगा वह रोज कहीं ना कहीं पार्टी में जाती होगी या तक पार्टी खुद ही करती होंगी।

परंतु एक इंटरव्यू में प्रियंका ( priyanka chopra )  ने बताया था कि उनको पार्टीज करना बिल्कुल पसंद नहीं है। “मुझे पार्टी करना बिल्कुल भी पसंद नहीं है।

Priyanka Chopra  मैं एक रूढ़िवादी बैकग्राउंड से हूं। मैं फिल्मों में जिस तरह से किरदार निभाती हूं, शायद उस वजह से लोग ये बात स्वीकार न कर सकें। लेकिन फिल्में मेरी जॉब है, जो लोग मेरे बारे में सोचते हैं,

Priyanka Chopra  मैं उससे बिल्कुल अलग हूं। मैं वो प्रियंका नहीं हूं, जो लोगों ने अंदाज, किस्मत और किसी अन्य फिल्म में देखी है”।

तीसरा मेरे बारे में जो सबसे बड़ा फैक्ट है, वो ये है कि, “मुझे कविताएं बहुत ज्यादा पसंद है। सबसे ज्यादा इंग्लिश और उर्दू की। मेंरे पसंदीदा शायर एमिली डिकिंसन, फैज साहब और गालिब हैं”।

 

मिस वर्ल्ड के फिनाले में दिया था गलत जवाब

 

Priyanka Chopra  : साल 2000 में प्रियंका चोपड़ा ने मिस वर्ल्ड का खिताब जीता था। परंतु कहा जाता है कि उसके फिनाले में प्रियंका ने गलत जवाब दे दिया था जिस वजह से वो जीती थी।

फिनाले में उनसे पूछा गया था कि किस जीवित महिला को वह उसे ज्यादा कामयाब मानती हैं तो इसके जवाब में उन्होंने मदर टेरेसा का नाम लिया था। जबकि वह 3 साल पहले ही मर चुकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *