प्रेरणादायक है AP Dhillon का गुरदासपुर से वेंकूवर का सुरीला सफर

AP DHILLON

AP Dhillon प्रसिद्ध पंजाबी सिंगर और रैपर एपी ढिल्लों की डॉक्यू सीरीज शुक्रवार को रिलीज हो गई है। यह सीरीज एपी की निजी जिंदगी से लेकर उनके सुरीला सफर को दर्शाती है। यह काफी ही प्रेरणा से भरपूर सीरीज है, जिस से लोगों के लिए एक नया नजरिया पेश किया गया है।

 

AP Dhillon first of a kind review

18 अगस्त दिन शुक्रवार को पंजाब के मशहूर रैपर और सिंगर एपी ढिल्लों ने अपनी सुरीली जिंदगी पर आधारित एक डॉक्यू सीरीज रिलीज कर दी है। जिसे उनके फैंस द्वारा काफी पसंद भी किया जा रहा है।

यूं तो पंजाब के छोटे-छोटे शहरों से निकाल कर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाने वाले बहुत से गायक और एक्टर्स, एक्ट्रेस है। उन्हीं में से एक नाम एपी ढिल्लों का भी आता है।

अपने म्यूजिकल जिंदगी पर आधारित ‘फर्स्ट हॉफ ए काइंड’ नाम से एक डोक्यो सीरीज को अमेजॉन प्राइम पर रिलीज किया है । जिसे दर्शकों में खूब प्यार में मिल रहा है बताते चलें कि इस सीरीज के लिए उनके फैंस बेसब्री से इंतजार कर रहे थे।

पंजाबी पॉप सिंगर एपी दिलों की जिंदगी पर आधारित यह चार एपिसोड की सीरीज आपको प्रेरित भी करती है।

इसमें उनके संगीत से जुड़े सफर के छोटे-छोटे चीजों के बारे में भी बताया गया है, जिसके बारे में शायद ही उनके फैंस रूबरू हो। कुछ ही साल में कनाडा में बतौर रैपर उन्होंने ऐसी पहचान बना ली है कि उनकी डॉक्यूमेंट्री देखने के लिए हर कोई उत्साहित है।

अगर आप भी आप की कहानी को डॉक्यूमेंट्री सीरीज के रूप में देखना चाहते हैं या सीरीज को देखने का मन बना रहे हैं तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि इसमें क्या देखने लायक है और क्या नहीं। यह सीरीज कितनी दमदार है। बताएंगे हर चीज विस्तार में! तो चलिए जानते हैं…

 

जबरदस्त है ‘फर्स्ट हॉफ ए काइंड’ डॉक्युमेंट्री

यह म्यूजिकल डॉक्यूमेंट्री सीरीज एपी ढिल्लो की जिंदगी को बहुत करीब से मुखातिब कराती है। सीरीज जबरदस्त और दमदार है। किस तरीके से एपी पंजाब के गुरदासपुर से निकलकर कनाडा के वैंकूवर में पहुंचे और वहां पर रैपर के तौर पर जो शोहरत हासिल की वह सारी चीज़ इसमें बताई और दिखाई गई है।

इसमें एपी को केवल एक म्यूजिशियंस यह आइकॉन के रूप में पेश नहीं किया गया है। बल्कि उनके संघर्ष दोस्त, परिवार के जज्बात करियर की शुरुआत में किया गया संघर्ष को इसमें बखूबी दिखाया गया है। इसमें पूरा फोकस यह दिखाने पर किया गया है कि एपी ढिल्लों बतौर और इंसान कैसे हैं, कैसा उनका रवैया है।

सीरीज में क्या है कि किस प्रकार से जमीन के साथ जुड़े रहते हुए भी आप ने आसमान की बुलंदियां छू ली। इस तरीके से वह पंजाब की गलियों से निकलकर अपने करियर की शुरुआत के लिए कनाडा पहुंचे और वहां जाकर उन्होंने अपने आपको म्यूजिक को समर्पित कर दिया। जिसने भी सीरीज को अच्छी है वह ढिल्लों के कायल हो गए हैं।

 

डॉक्यूमेंट्री में कैसी है कहानी

डॉक्यूमेंट्री की शुरुआत में यह बताया गया है कि किस प्रकार से गुरदासपुर जिले के छोटे से गांव का रहने वाला एक लड़का अपने पिता के कहने पर कनाडा के वैंकूवर आईलैंड में चला जाता है। कि उनके पिता को भी शुरू से सूफिया संगीत का शौक होता है जिसका असर बेटे पर भी पड़ता है।

बचपन से ही संगीत का शौक होने के वजह से जब उसे वेंकूवर कुछ लोग मिलते हैं तो उनके साथ जोड़कर एपी एक ऐसे सफर की शुरुआत करता है कि साल 2022 में वह स्पॉटिफाई पर सबसे अधिक सुनने वाला आर्टिस्ट होता है।

किस तरीके से गेराज में वह अपना पूरा सेटअप बनाते हैं और एक गीत निकालते हैं जिसे बहुत ही कम समय में 10000 यूज मिल जाते हैं। कहीं से उनकी टीम का हौसला बढ़ता है और वह लगातार गीत निकालने लगते हैं।

इसके चार एपिसोड की बात करें तो उसमें से जो शुरू वाला एपिसोड है उसमें फोकस पर काफी अप्रोच किया गया है। इसमें एपी की शानदार कामयाबी को दिखाया गया है।

इसमें एक ऐसे लड़के की कहानी को बताया गया है जो अपने सारे मुश्किलों को पीछे छोड़कर कैरियर बनाने के लिए आगे बढ़ता है। हालांकि कि उसकी जिंदगी में कुछ इमोशनल पल भी आए जिसे फोकस में नहीं लिया गया।

 

ये भी पढ़ें – RBI ने लोन लेने वालों को दी बड़ी खुशखबरी, बैंकों के लिए बनाया नया नियम

 

सीरीज में इस्तेमाल हुई ओरिजिनल फुटेज

एपी ढिल्लों की जिंदगी पर आधारित बनी डॉक्यूमेंट्री सीरीज को चार एपिसोड में बांटा गया है। हर एपीसोड में सिंगर के पंजाब और वेंकूवर घर के ओरिजिनल फुटेज भी दिखाए गए हैं। इसके अतिरिक्त उनके परिवार और दोस्तों की इंटरव्यू भी इसमें ऐड की गई है।

करियर की शुरुआत करने के लिए कनाडा के वैंकूवर में पहुंचे एपी को भाषा के लिए किस प्रकार से मुश्किलें आती हैं, जिंदगी जीने के लिए उन्हें तरह तरह के काम करने पड़ते हैं।

यह सीरीज ज्यादातर इस बात पर फोकस है कि एपी ढिल्लों ने किस प्रकार से अपनी टीम बनाई और कैसे इस मुकाम तक पहुंचे। डॉक्यूमेंट्री में दिलचस्पी बनाए रखने के लिए एपी के गीतों को भी वह खूबी तरीके से पिरोया गया है। हालांकि इसमें उनकी प्राइवेट लाइफ पर बहुत ही कम फोकस किया गया है।

 

एपी का सिद्धू मूसे वाला प्रति प्यार भी दिखा

इतनी प्रसिद्धि पा लेने के बाद भी समय से जुड़े रहना इस बात की निशानी है कि वह बेहद ही साफ और नेक दिल इंसान है। वह पूरी डॉक्यूमेंट्री में विनम्र और शांति बनाए रखने वाले इंसान नजर आए। इसके अतिरिक्त सिद्धू मूसे वाला के प्रति एपी दिनों का प्यार भी डॉक्यूमेंट्री में खूब देखने को मिला। इस में कुछ ऐसी बातें भी दिखाई गई है जिसे देखकर आप हैरान रह जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *