72 hoorain trailer : आतंकवाद के खौफनाक सच को लेकर पेश हुई ’72 हूरें’, लोगों को पसंद आ रहा है कांसेप्ट

72 hoorain

72 hoorain trailer सेंसर बोर्ड की आपत्ति के बावजूद फिल्में करने ’72 हूरें’ का ट्रेलर रिलीज कर दिया है। यह फिल्म आतंकवाद पर बनी है। इसके कई सीन पर आपत्ति जताई जा रही है। टीजर को भी लोगों ने काफी पसंद किया था। इसके ट्रेलर के आने के बाद कांसेप्ट की चर्चा होने लग गई है।

 

72 hoorain trailer release

सेंसर बोर्ड की आपत्ति के बाद भी फिल्म मेकर्स ने ’72 हूरें’ का ट्रेलर रिलीज कर दिया है। कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर 72 हूरें की चर्चा जोरों शोरों से हो रही है। पोस्टर रिलीज होते ही यह विवादों में आ गई थी। संजय पूरन सिंह के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म के ट्रेलर को सेंसर बोर्ड द्वारा हरी झंडी नहीं दी गई थी।

इसके बावजूद भी उन्होंने बुधवार को ट्रेलर लॉन्च कर दिया है। मेकर्स का कहना है कि फिल्म के ट्रेलर में डेड बॉडी का एक पैर दिखाई दे रहा है,जिस पर सेंसर बोर्ड ने आपत्ति जताई है। इस सीन को काटने के लिए कहा गया था, परंतु ट्रेलर में यह सीन नहीं हटाया गया है। बता दे कि ट्रेलर के साथ फिल्म की कहानी भी सबके समक्ष आ गई है।

 

                             ये भी पढ़ें – बहुत टैलेंटेड है Bollywood के ये starkids, कोई स्पोर्ट्स में तो कोई सिंगर में है माहिर

 

72 hoorain trailer : कैसा है ’72 हूरें’ का ट्रेलर

’72 हूरें’ की कहानी लोगों को काफी पसंद आ रही है। इसके कांसेप्ट को सराहा जा रहा है। इसमें आतंकवाद की क्रूरता को दिखाया गया है। किस प्रकार से लोगों का ब्रेनवाश करके उन्हें धर्म बदलने पर मजबूर किया जाता है। इसके बाद आतंकवादी संगठन का हिस्सा लोगों को बना दिया जाता है।

72 hoorain trailer में दिखाया गया है कि लोगों को बरगलाया जाता है दूसरों की हत्या करने के लिए। लोगों को कहा जाता है कि अगर वह दूसरों की जान लेते हैं और अपनी जान की परवाह नहीं करते हैं तो जन्नत में उन्हें 72 हूरें मिलेंगी। परंतु धीरे-धीरे पता चलता है कि जो बातें उनसे कही गई थी यह सब झूठ है।

बता दें कि इस फिल्म के जरिए लोगों के समक्ष आतंकवाद के खौफनाक चेहरे को रखने की कोशिश की गई है। सोशल मीडिया पर इसके कांसेप्ट पर काफी चर्चा छिड़ी हुई है।

 

72 hoorain trailer सेंसर बोर्ड ने कुछ सीन पर जताई थी आपत्ति

जब से इस फिल्म का फर्स्ट लुक जारी किया गया था तब से ही से लेकर विवाद शुरू हो गया है। जितना दमदार टीजर था और उतना ही दमदार ट्रेलर है। मगर सोशल मीडिया पर इसे लेकर कई प्रकार की प्रतिक्रियाएं लोगों की तरफ से आ रही हैं। सेंसर बोर्ड ने बीच के कुछ सीन पर आपत्ति जताई थी और सर्टिफिकेट जारी नहीं किया था।

जानकारी मुताबिक इसमें एक डेड बॉडी की पैर दिखाई दे रहा है जिस पर बोर्ड को आपत्ति है। इसीलिए ट्रेलर को पास नहीं किया गया था। इस पर फिल्म मेकर अशोक पंडित ने एक इंटरव्यू में बताया कि हम शौक्ड है कि सेंसर बोर्ड ने इसके ट्रेलर को पास क्यों नहीं किया। यहां तक की ट्रेलर को सर्टिफिकेट देने से भी इंकार कर दिया गया है।

72 hoorain trailer उनका कहना है कि, एक तरफ आपने फिल्म को नेशनल अवॉर्ड दिया है और दूसरी तरफ इसी फिल्म के ट्रेलर को आप सर्टिफिकेट नहीं दे रहे हैं। हमें लगता है कि CBFC के साथ कोई समस्या है। हम CBFC के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने निवेदन करते हैं कि जिन्होंने ऐसा मजाकिया फैसला लिया है, वह उन्हें निकाल दें।’

सिनेमाघरों में स्थित दस्तक देगी 72 हूरें

72 hoorain trailer टीजर को भी लोगों ने जितना प्यार दिया उतना ही प्यार ट्रेलर को दे रहे हैं। हालांकि इसे लेकर विवाह जरूर छिड़ गया है परंतु आधे से ज्यादा लोग इसे पसंद कर रहे हैं।

बता दें कि ट्रेलर को डिजिटल प्लेटफार्म पर ही रिलीज किया गया है। 7 जुलाई को यह फिल्म हिंदी भाषा के अलावा कन्नड़, अंग्रेजी, बंगाली, भोजपुरी, मलयालम, पंजाबी , तेलुगू, कश्मीरी और तमिल में रिलीज की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *